Uncategorized

कोरोना काल में साहित्य चर्चा-7

करोड़ों में क्यों खेलते हैं वेस्टर्न साहित्यकार?

एडगर एलन पो

लेखन को जीविकोपार्जन का माध्यम बनाने वाले पहले अमेरिकी लेखक साहित्य का भयानक और अद्भुत रस भी पाठकों को खींचता है, इस बात को ध्यान मे रखते हुये पश्चिम के कई लेखकों ने हॉरर को अपना विषय बनाया, जिसकी जोरदार शुरुआत एडगर एलन पो ने की। 1809 में जन्मे एलन पो अमेरिका के पहले ऐसे लेखक रहे जिन्होंने लेखन के जरिये आजीविका कमाने की जोखिम उठाया। कवि, संपादक और आलोचक रहे पो अपनी रहस्यमयी और भयावह कहानियों तथा गोथिक रोमांस के कारण पाठकों को अलग से आकर्षित किया। पो की शैली को “गोथिक” कहा जाता है। इन्होंने अपनी रचनाओं में मुख्यतः मृत्यु, मृत्यु के चिह्न, जीवित दफ़नाना, मृत्योपरांत जीवन और शोक इत्यादि विषयों को टटोला है। इसके साथ ही इन्होंने ऑगस्त ड्यूपिन नाम के जासूस की रचना की, जिसके द्वारा स्थापित जासूसी विधि का बाद में शर्लक होम्स और हरकूल पायरों जैसे जासूसी नायकों ने भी प्रयोग किया। बचपन में ही माँ-बाप को खोने वाले एलन पो का जीवन का काफी गरीबी मे कटा और मात्र 40 वर्ष की उम्र में वह दुनिया को अलविदा कह गए। किन्तु छोटी सी उम्र में उन्होंने जो चमत्कारिक लेखन किया, उनका नाम दुनिया के उन विरल लेखकों में शामिल हुआ, जिनकी किताबें 100 मिलियन से अधिक संख्या में लोगों तक पहुंची।वैसे तो पो हर शैली में अद्भुत लेखन करते रहे किन्तु गोठिक शैली मे जो लेखन किया, वह उन्हे विश्व के अतिविशिष्ट लेखकों में जगह दिला गया। बाद के दिनों मे फ्रैंकेंस्टाइन और ड्राकुला नामक जो दो सदाबहार हॉरर चरित्र सामने आए, उनमें लोग पो का प्रभाव ढूंढते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *